Friday, 23 September 2016

समझौता (डोंट एक्सप्रेस)


पैसों के हिसाब किताब में रुपया छूट गया।
आटा दाल का मोल तोलते रोटी छूट गयी।
तू तू मैं मैं की अहं बहस में शादी छूट गयी।
जीवन के तथ्यों के चलते सपने छूट गए
मुद्दों से समझौता करते असूल छूट गए।
जीने के तर्कों को समझते जीवन छूट गया।
ज़िन्दगी से समझौता करते आप छूट गया।
इन "पहले आप" के समझौतों में गाड़ी छूट गयी।

***